गोरखपुर। माफिया विनोद उपाध्याय का गुर्गा दीपक यादव पुलिस के शिकंजे में आ गया है। दरअसल दीपक यादव के भाई प्रॉपर्टी डीलर संजय यादव की हत्या के मामले में विरोधियों को फंसाने की साजिश रचने के आरोप में पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक माफिया विनोद उपाध्याय के इशारे पर ही दीपक यादव ने झूठा शपथ पत्र देकर गवाहों को फंसाने की साजिश रची थी। वह सब विवेचक के इशारे पर हुआ कैंट पुलिस ने एलबीडब्ल्यू में वांछित दीपक यादव को सत्संग चौराहे से गिरफ्तार किया है। बता दे की चर्चित लाल बहादुर हत्याकांड व हत्या के प्रयास तथा 7 सी एल ए के एक मुकदमे में नामजद विनोद उपाध्याय ने इन दोनों मुकदमे के 3 गवाहों को फंसाने के लिए दीपक यादव के भाई प्रॉपर्टी डीलर संजय की हत्या में झूठा षड्यंत्र रच कर विवेचक की मदद से गवाहों क्रमशः संजय उर्फ भूरा ब्रह्मदेव यादव व विजय बहादुर यादव को अभियुक्त के रूप में इनका नाम मुकदमे में बढ़वा दिया। एसटीएफ की जांच के बाद कैंट थाने में धारा 194 120 बी का मुकदमा विनोद उपाध्याय कमल कांत पांडे अजय गुप्ता और दीपक यादव तथा विवेचक विमलेंद्र मौर्य के खिलाफ दर्ज किया गया।इस मुकदमे में विनोद सहित दो अभी भी फरार हैं। सीओ कैंट अभिषेक सिंह ने आज पत्रकारों को बताया कि माफिया विनोद उपाध्याय ने विवेचना को प्रभावित करने के लिए दीपक यादव को मोहरा बनाया था। दरसल विनोद उपाध्याय खुद के मुकदमे में समझौता कराने को लेकर दीपक यादव के जरिए उन्हें फंसाना चाह रहा था। सीओ कैंट ने बताया कि दीपक सहित जो चार इस मुकदमे में शामिल है। उनके ऊपर गैंगस्टर लगाया जाएगा।

 

 

अभिषेक गुप्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here