आखिरकार गन्ना किसानों का सपना हुआ पुरा, चालू हुई पिपराइच चीनी मील.

जनपद गोरखपुर

मैनुद्दीन अली /भटहट से

पिपराइच(भटहट) नवनिर्मित पिपराइच चीनी मील का ट्रायल सीसीएम भीषम सिंह बघेल ने विधिविधान से पूजा अर्चना करने के बाद किया. गन्ना लेकर बैल गाड़ी से पहूंचे किसान का धर्मकांटा पर फूलमालाओं से स्वागत किया. मील चालू होने से गन्ना किसानों के सपनो में पंख लग गया. किसानों में खुशीयों की लहर दौड़ पड़ी.

प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्वांचल को चीनी का कटोरा कहा जाता है. पिपराइच की पूरानी चीनी मील वर्ष 2007 में बंद पडने के कारण गन्ना किसानों के ख्वाब चकनाचूर हो गये थे. लेकिन प्रदेश की कमान योगी अदित्यनाथ के हाथ लगते ही चीनी मील चालू होने का रास्ता साफ कर दिया. उन्होंने नई मील का तोहफा दिया. आखिरकार सोमवार को चीनी मील का सफल ट्रायल हुआ तो किसानों के चेहरे खिल उठे।

बैल गाड़ी से पहूंची गन्ने की पहली खेप दिखी प्राचीन सभ्यता
चीनी मील चालू होने से गन्ना किसानों में पर्ची दे दी गई थी. इस आधुनिक युग में जब बैल गन्ना लेकर किसान वहां पहूंचा तो लोगों को भारत की प्राचीन सभ्यता याद आ गई. सोमवार को सर्वप्रथम गन्ना की पहली खेप बैल गाड़ी से लेकर पहंचे महुअवां गांव के किसान कैलाश का सीसीएम श्री बघेल ने फूलमालाओं से धर्मकांटे पर जोरदार स्वागत किया. अंगवस्त्र और प्रोत्साहन राशि देकर सम्मानित भी किया.

डोंगर का बटन दबा कर चालू हुई पेराई

मुख्य गन्ना प्रबंधक उत्तर प्रदेश भीषम सिंह बघेल ने पूजा अर्चना के बाद डोगर का स्विच आंन कर चालू मील का शुभारंभ किया. इसके बाद पराई सुरु हो गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here